Sunday, January 29, 2012

रही सही जनता कि ,टूट गयी आस

A poem on corruption in India

रही सही जनता कि ,टूट गयी आस
राजनैतिक सामाजिक,मूळयो का हास
संसद के भीतर अब ,छिड गयी जंग
लोहिया के चेलो ने ,बदले है रंग
लोकनायक जे-पी का ,उडता उपहास
गांधी के सपनो का ,कहा गया देश
विदेशी चिंतन है ,खादी का वेश
भारतीय मूल्यो को ,मिलता वनवास
महंगाई आई है तो ,रूठ गये प्राण
छिन गयी रोटी है,निर्धनता निष्प्राण
अन्ना जी करते है ,अनशन उपवास
फैली है चहु और बंद और हडताल
शनैः शनैः चलती है जाँच और पडताल
भृष्टो का बंगलो मे होता है वास
दीन हीन को मिलते न ,मौलिक अधिकार
गठबंधन से चलती ,केन्द्रीय सरकार
कालेधन कि होती ,व्यवस्था दास

Poet- rajendra sharma 'vivek'

No comments:

Post a Comment

Thanks.

Disclaimer           Contact us           Advertise           Help us