Friday, January 13, 2012

“मुँह बंद करने के ढंग”

मुँह में कपड़ा या और कुछ ठूंस करके,
या फिर मुंह पर टेप की पट्टी चिपकाकर,
या अचेतनकारी कोई औषधि गटकाकर,
अथवा मुंह में पानी या कोई ज्यूस भरके !
आजका सरलतम ढ़ंग वो है गुपचुप-धन,
जिसे ही आज अपनाते हैं लगाके तन-मन !
सर्वव्याप्त है ये ही ढ़ंग जिसका ही चढ़ता रंग,
ये ही है स्थिति आज जैसे कुए में गिरी हो भंग !
क्या करेंगे पुलिस-कर्मी और क्या करेंगे कर्मचारी ?
क्या करेंगे अभियंता और कर-विभाग के सहचारी ?
कैसे करेगा गुजर-बसर कोई भी अनाचारी-भ्रष्टाचारी ?
कैसे चलेंगे मदिरालय-वेश्यालय जब न होंगे व्यभिचारी ?
लेन-देन यदि नहीं रहा तो सर्वत्र ही मचेगी मारा-मारी,
धन की अपरिहार्य चाहत तब केवल होगी इक लाचारी !
खाली हो जायेंगी भ्रष्टाचारियों की तिजोरी या अलमारी !
धार्मिक स्थलों से तब पलायन करते दिखेंगे सारे पुजारी !
“देख तेरे भगवान की हालत अब क्या हो गई रे इंसान,
मंदिर, मस्ज़िद, गुरुद्वारे, गिरिजाघर हो रहे हैं सुनसान”
यही रचेगा, बजेगा गीत तब जब कोई न रहेगा बेईमान,
यदि फिर आयेगा राम-राज्य तब ही हमारी बढ़ेगी शान !
 
Poet- ashwini kumar goswami

No comments:

Post a Comment

Thanks.

Disclaimer           Contact us           Advertise           Help us